List Headline Image
Updated by abhay singh on Oct 14, 2021
 REPORT
abhay singh abhay singh
Owner
20 items   1 followers   0 votes   1 views

जानिए बादशाह अकबर आखिर क्यों बनना चाहता था हिन्दू ?

आपने शायद बादशाह अकबर और बीरबल के कई किस्से सुने होंगे। ऐसा कहा जाता है कि सम्राट अकबर को बहुत कम पढ़ाया जाता था, फिर भी वह अपने आस-पास की हर चीज के बारे में जानता था।

जहांगीर के चरित्र की प्रमुख विशेषताए – Indian History

जहाँगीर के व्यक्तित्व के मूलभूत घटक निम्नलिखित हैं- 1. विदेशी व्यक्ति जहांगीर विदेशी प्रकृति के व्यक्ति थे। वह अपनी इच्छा की पूर्ति के लिए कुछ भी करने को तैयार रहता था। वह किसी भी घटना में मेहरुनिसा के प्रति आकर्षित थी, जब उसकी पूर्व-वयस्कता में शादी की गई थी, फिर, उस समय, प्रमुख बनने के… jahangir ka itihas

सरदार पटेल: जिन्होंने राजाओं को ख़त्म किए बिना ख़त्म कर दिए रजवाड़े – Indian History

यदि आप हमारे स्वतंत्रता सेनानियों को याद नहीं करते हैं, तो आज के भारतीय परिवेश की आपकी कल्पना अधूरी है। आज कई लोग इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि को याद करते हैं, लेकिन उनके साथ हम इस देश के महान नेता सरदार वल्लभ भाई पटेल को नहीं भूल सकते। भारत आज एक ऐसा महान और विशाल…

जब मुग़ल बादशाह जहाँगीर का हुआ अपहरण – Indian History

जहाँगीर के बारे में कहा जाता है कि वह अतुलनीय मुगलों के बारे में सबसे अनजान था। वह एक भारी शराब पीने वाला था और उसका जोर सैन्य मिशनों के विपरीत, कारीगरी और जीवन के आनंद और अपव्यय में भाग लेने पर अधिक था। जो भी हो, क्या जहाँगीर का यह मूल्यांकन सटीक है? जहाँगीर… jahangir ka itihas

जहांगीर के शासनकाल का विस्तार – Indian History

1605 ई. में जहांगीर ने इस सीट को आगे बढ़ाया। ईस्वी सन् में, शहजादा परवेज के प्रशासन के तहत एक विशाल सशस्त्र बल को मेवाड़ से दूर भेज दिया गया था, लेकिन देवर दर्रे के पास संघर्ष में कोई विकल्प नहीं लिया गया था। इसके बाद जहांगीर ( jahangir ka itihas ) ने 1608 ई.… jahangir ka itihas

बक्सर का युद्ध: इसके कारण और परिणाम – Indian History

बक्सर का युद्ध :- बक्सर का युद्ध 22 अक्टूबर, 1764 को बंगाल के नवाब, मिरकासिम और अंग्रेजों के बीच हुआ था। बक्सर के संघर्ष में, बंगाल के नवाब मिरकासिम की सेना, अवध के नवाब शुजा-उद-दौला और मुगल शासक शाह आलम द्वितीय ने मिलकर अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी। 23 जून, 1757 ई. को प्लासी के… Bharat Ka Itihas

आखिए औरंगजेब अपनी ही बहन रौशनआरा को धीमा जहर देकर क्यों मरवाया? – Indian History

1657-58 ई.(Prachin Bharat Ka itihas) में शाहजहाँ के पुत्रों के बीच उत्तराधिकार के युद्ध में रौशनारा ने औरंगज़ेब का समर्थन किया, जिसके कारण औरंगज़ेब ने इस खूनी संघर्ष को जीत लिया। रौशनारा के इस उपकार को औरंगजेब भूल नहीं पाया। इसलिए सम्राट बनते ही उन्होंने पांच लाख रुपये इनाम के तौर पर रोशनआरा को दिए…

know more ---Prachin Bharat Ka itihas

जहाँगीर की वो एक छोटी सी गलती जिसने भारत को बना दिया था अंग्रेजों का गुलाम – Indian History

भारत बहुत लंबे समय तक अंग्रेजों का बंदी बना रहा। अधीनता के दौरान व्यक्तियों पर कई घृणाएँ थीं। अगर काम के दौरान किसी की मौत हो जाती है, तो किसी के घर में ओवन नहीं चल सकता। वह कारण क्या था जिसके कारण ऐसे अनगिनत वर्षों के लिए व्यक्तियों को अंग्रेजों की बंदी बनने की…jahangir ka itihas

जानिए भारतीय राजनीति तथा भारत में फैले भ्रष्टाचार की सच्चाई

जानिए क्या बुढ़िया का चश्मा जो भारतीय राजनीति तथा भारत में फैले भ्रष्टाचार पर एक करारा व्यंग्य है। क्या इसमें सच्चाई है ?

आखिर क्या थी औरंगज़ेब की मक्कारी ?

ऑक्सस तट पर खड़े लाखों क्रूर उजबेकों को बंदूकों और तोपों के साथ सन्नद्ध देखकर औरंगज़ेब के सेनापतियों के होश उड़ गए,जानिए इससे औरंगज़ेब की मक्कारी का क्या मतलब है ?

23. टुबरकुलोसिस और मलेरिया ने महमूद गजनवी की जान ले ली!

टुबरकुलोसिस और मलेरिया ने महमूद गजनवी की जान ले ली! वह कमज़ोर हो चुका था और उसके शरीर को कई रोगों ने घेर लिया था।

‘प्लासी एक ऐसा सौदा था - जिस जंग ने भारत के इतिहास को बदल कर रख दिया

इतना तात्कालिक, स्थायी और प्रभावशाली परिणामों वाला कोई युद्ध नहीं हुआ।’ - प्लासी का युद्ध

अंतिम हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान Archives - भारत का इतिहास – भारत का इतिहास – विश्व सभ्यता का गौरव!

इस श्रेणी में भारत के अंतिम हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान के इतिहास को वी-ब्लॉग के रूप में लिखा गया है। The Last Hindu Emperor Prithviraj Chauhan

अध्याय - 34 (अ) : मुगल शासन व्यवस्था एवं संस्थाएँ - भारत का इतिहास – भारत का इतिहास – विश्व सभ्यता का गौरव!

भारत का इतिहास सदैव गौरवपूर्ण रहा है। इस इतिहास के पीछे अनेक कथाओं के साथ–साथ आंदोलन और संघर्ष की कहानी सुनने को मिलती है। आइए जानें भारतीय इतिहास की प्रमुख घटनाएं।

अध्याय - 27 (अ) : नूरुद्दीन मुहम्मद जहाँगीर (1605-1627 ई.) - भारत का इतिहास – भारत का इतिहास – विश्व सभ्यता का गौरव!

भारत का इतिहास सदैव गौरवपूर्ण रहा है। इस इतिहास के पीछे अनेक कथाओं के साथ–साथ आंदोलन और संघर्ष की कहानी सुनने को मिलती है। आइए जानें भारतीय इतिहास की प्रमुख घटनाएं।

Adhunik Bharat Ka Itihas : आधुनिक भारत का इतिहास

भारत का इतिहास सदैव गौरवपूर्ण रहा है। आइए जानें कुछ Adhunik Bharat ka itihas की प्रमुख घटनाएं, जिसे सुनकर आप रोमांचित हो उठेंगे

3. जेहाद ने इस्लाम को धरती के कौने-कौने तक पहुंचा दिया! - भारत का इतिहास – भारत का इतिहास – विश्व सभ्यता का गौरव!

भारत का इतिहास सदैव गौरवपूर्ण रहा है। इस इतिहास के पीछे अनेक कथाओं के साथ–साथ आंदोलन और संघर्ष की कहानी सुनने को मिलती है। आइए जानें भारतीय इतिहास की प्रमुख घटनाएं।

पूर्वी-पाकिस्तान में धर्म के नाम पर हिन्दुओं की और भाषा के नाम पर मुसलमानों की हत्या - भारत का इतिहास – भारत का इतिहा...

भारत का इतिहास सदैव गौरवपूर्ण रहा है। इस इतिहास के पीछे अनेक कथाओं के साथ–साथ आंदोलन और संघर्ष की कहानी सुनने को मिलती है। आइए जानें भारतीय इतिहास की प्रमुख घटनाएं।

पूर्वी-पाकिस्तान में धर्म के नाम पर हिन्दुओं की और भाषा के नाम पर मुसलमानों की हत्या - भारत का इतिहास – भारत का इतिहा...

भारत का इतिहास सदैव गौरवपूर्ण रहा है। इस इतिहास के पीछे अनेक कथाओं के साथ–साथ आंदोलन और संघर्ष की कहानी सुनने को मिलती है। आइए जानें भारतीय इतिहास की प्रमुख घटनाएं।